Nanda Devi National Park घूमने का सबसे अच्छा समय |

nanda devi national park

nanda devi national park in hindi नंदा देवी नैशनल पार्क भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित है | और यह यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल में भी शामिल है। इस नैशनल पार्क का नाम नंदा देवी चोटी के नाम पर रखा गया है | जो भारत की दूसरी सबसे ऊँची पर्वत चोटी है | जो लगभग 7,816 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

Nanda Devi National Park घूमने का सबसे अच्छा समय |

नंदा देवी नैशनल पार्क करीबन 630.33 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है | जो 5,148 वर्ग किलोमीटर के बफर जोन से घिरा हुआ है। यह पार्क वनस्पतियों और जीव जन्तुओ का घर है | जिसमें कई प्रजातियां शामिल है | जैसे एशियाई काला भालू, हिम तेंदुआ और हिमालयी कस्तूरी मृग, और कई पक्षियां भी हैं। nanda devi national park is famous

नंदा देवी नैशनल पार्क अपने ट्रेकिंग मार्गों के लिए भी जाना जाता है | जो हिमालय पर्वत श्रृंखला के शानदार दृश्य प्रस्तुत करते हैं। पर्यटक नंदादेवी चोटी के साथ-साथ आसपास की अन्य चोटियों की यात्रा भी कर सकते हैं। हालांकि पार्क मई से नवंबर तक के बीच खुलता है | लेकिन ट्रेकिंग की अनुमति केवल वर्ष के कुछ महीनों के दौरान ही मिलती है। nanda devi national park kaha hai

यह नैशनल पार्क दुनिया भर के प्रकृति प्रेमियों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य स्थल है। nanda devi temple यह हिमालय पर्वत श्रृंखला की सुंदरता और जैव विविधता के साथ-साथ स्थानीय लोगों की संस्कृति और परंपराओं का अनुभव करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करता है। nanda devi national park story

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का इतिहास | History of Nanda Devi National Park

नंदा देवी नैशनल पार्क का इतिहास सं 1936 में देखा जा सकता है जब इस क्षेत्र को ब्रिटिश औपनिवेशिक प्रशासन के द्वारा खेल अभयारण्य घोषित किया गया था। लेकिन 1982 में पार्क को भारत सरकार द्वारा बायोस्फीयर रिजर्व के नाम से स्थापित किया गया था। परन्तु 1988 में इसे राष्ट्रीय उद्यान और इसको यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया। nanda devi national park unesco world heritage site

See also  Top 12 Best Places to Visit Rishikesh 

नंदा देवी नैशनल पार्क उच्च हिमालय में स्थित है | और स्थानीय लोगों के लिए एक पवित्र स्थल माना जाता है। लेकिन यह क्षेत्र काफी सदियों तक मानवीय गतिविधियों से अछूता रहा। फिर 19वीं सदी में, खोजकर्ता और पर्वतारोहियों ने आश्चर्यजनक पर्वत चोटियों और क्षेत्र के अद्वितीय वनस्पतियों और जीवों से आकर्षित होकर इस क्षेत्र में उद्यम करना शुरू किया। nanda devi national park in hindi

नंदादेवी चोटी की पहली सफल चढ़ाई सन 1936 में एरिक शिप्टन और एच.डब्ल्यू. के नेतृत्व में एक ब्रिटिश अभियान दल द्वारा की गई थी। फिर वन्यजीवों और उनके घरों की रक्षा के लिए जल्द ही इस क्षेत्र को एक खेल राष्ट्रीय उद्यान घोषित कर दिया गया। कुछ वर्षों में, इस क्षेत्र में आने वाले कुछ पर्वतारोहियों और खोजकर्ताओं को छोड़कर, पार्क काफी हद तक अछूता और दुर्गम बना रहा।

1970 के दशक में पार्क को एक महत्वपूर्ण मान्यता मिली थी | जब पर्वतारोहियों के एक समूह ने हिम तेंदुए और हिमालयी कस्तूरी मृग जैसी दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों की खोज की। इसने पार्क को बायोस्फीयर रिजर्व के रूप में और बाद में एक राष्ट्रीय उद्यान के रूप में स्थापित किया। nanda devi sanctuary

nanda devi national park in hindi

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान घूमने की जगहों के पास | Near Places to visit Nanda Devi National Park

फूलों की घाटी: फूलों की घाटी पार्क से लगभग 30 किमी दूर स्थित एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल स्थित है। जो अपने रंग-बिरंगे फूलों के लिए जाना जाता है | जिनमें हिमालयन ब्लू पॉपपीज़, प्रिमुला और डेज़ी शामिल हैं।

हेमकुंड साहिब: हेमकुंड साहिब नेशनल पार्क से लगभग 50 किमी दुरी पर स्थित है। यह 4,329 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है | आसपास के पहाड़ों के सूंदर दृश्य प्रस्तुत करता है।

See also  Madhyamaheshwar Temple in Hindi पंच केदार में से एक है मध्यमहेश्वर मंदिर

बद्रीनाथ: नेशनल पार्क से लगभग 100 किमी दूर बद्रीनाथ तीर्थ स्थल स्थित है। यह मंदिर अलकनंदा नदी के तट पर है | और अपने प्राचीन मंदिरों और प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। nanda devi national park in hindi

ट्रेकिंग मार्ग नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान | Trekking route Nanda Devi National Park

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान के लिए ट्रेकिंग मार्ग की अवधि ट्रेक के आधार पर भिन्न होता है। पार्क में प्रवेश लेने और क्षेत्र में ट्रेक करने के लिए वन विभाग से ट्रेकिंग परमिट लेने की आवश्यकता होती है। nanda devi national park trek

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान के लिए ट्रेकिंग परमिट शुल्क भारतीय नागरिकों के लिए प्रति व्यक्ति INR 1500 रुपये और विदेशी नागरिकों के लिए प्रति व्यक्ति INR 6000 रुपये होता है जो केवल तीन दिनों के लिए होता है।

नदा देवी बेस कैंप ट्रेक पर पहुँचने के बाद अगर आप दस दिनों का अधिक ट्रेक करना चाहते हो | तो भारतीय नागरिक को प्रति व्यक्ति 4000 रुपये और विदेशी नागरिक को प्रति व्यक्ति 8000 रुपये देने होते है। यह फिर आप कुछ और दिन अधिक लेते है | तो प्रत्येक दिन का भारतीय नागरिको के लिए प्रति व्यक्ति 200 रुपये और विदेशी नागरिको के लिए प्रति व्यक्ति 400 रुपये का होता है। nanda devi national park kaise jaye

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान घूमने का सबसे अच्छा समय | Best Time To Visit Nanda Devi National Park

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा का सबसे अच्छा समय गर्मियों और शरद ऋतु के महीनों के दौरान मई से नवंबर तक के बीच होती है। इस समय मौसम आमतौर पर अच्छा होता है | पार्क इस समय ट्रेकिंग के लिए भी खुला होता हैं। nanda devi national park kaise ghume

पर्यटक ट्रेकिंग और वन्य जीवन देखने के लिए पार्क की यात्रा करते हैं। हलाकि इस मौसम में बर्फ पिघल जाती है | और ट्रेकिंग के लिए मार्ग सुलभ हो जाता है । इस दौरान पर्यटक विभिन्न प्रकार के खिले हुए फूलों और प्रकृति का आनदं उठा सकते है। nanda devi national park in hindi

जुलाई से अगस्त तक मानसून का मौसम और भारी वर्षा के कारण पार्क में जाने बंद होता है | जो ट्रेकिंग मार्गों को फिसलन भरा और खतरनाक बना सकता है। nanda devi national park in hindi

See also  Kedarnath Dham Opening Date | भक्तों के लिए 25 अप्रैल से केदारनाथ मंदिर कपाट खुलें गऐ

सितंबर से नवंबर तक के शरद ऋतु के महीने भी पार्क घूमने का एक आदर्श समय है। मौसम ठंडा है, और आसमान साफ ​​है, यह ट्रेकिंग और पहाड़ के नज़ारों के लिए एक उत्कृष्ट समय है। पर्यटक इस दौरान जंगल के बदलते रंगों को भी देख सकते हैं, जिससे यह प्रकृति फोटोग्राफी के लिए एक अच्छा समय बन जाता है। nanda devi national park between to visit

nanda devi national park in hindi

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान में भ्रमण योजना | Tour plan in Nanda Devi National Park

पहला दिन: नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान की ट्रैकिंग

जोशीमठ या गोविंदघाट की यात्रा करें, जो नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान की ट्रैकिंग के लिए केंद्र बिंदु हैं। जिसमे आपको 3 से 4 घंटे लग जायेंगे | ट्रैकिंग करते समय कई सूंदर पहाड़ो का दृश्य देखने को मिलते है ।

दिन 2: घांघरिया के लिए ट्रेक

सुबह जल्दी उठे और घांघरिया के लिए ट्रेक करें | जो लगभग 10,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।
ट्रेक लगभग 14 किमी होगा | जिसे तय करने में लगभग 6-7 घंटे लगते हैं। रास्ते भर पहाड़ों और जंगलों की प्राकृतिक सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।

दिन 3: फूलों की घाटी में ट्रेक

सुबह जल्दी ट्रेक शुरू करें | घांघरिया से लगभग 3 किमी दूरी पर फूलों की घाटी स्थित है। जिसे तय करने में 1 घण्टे का समय लगता है |
पूरा दिन फूलों की घाटी में बिताएं और रंगीन फूलों और आश्चर्यजनक फूलों के दृश्यों को देखें। और शाम होते -होते घांघरिया वापस लौटें आये।

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान कैसे पहुंचे | How to reach Nanda Devi National Park

हवाईजहाज द्वारा : नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का नज़दीकी हवाई अड्डा देहरादून में स्थित जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है | जो नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान से लगभग 295 किमी दूर है। हवाई अड्डे के बाहर से आपको बस और शेयर टैक्सी मिल जाएंगी | जो सीधा नेशनल पार्क तक पहुँचा देगी हैं। बस का किरया 400 रूपये और शेयर टैक्सी का किराया 500 रूपये तक होगा | nanda devi national park bus fare

सड़क द्वारा: नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान उत्तराखंड के प्रमुख शहरों और अन्य राज्यों से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। नेशनल पार्क तक पहुँचने के लिए दिल्ली, हरिद्वार, ऋषिकेश और देहरादून जैसे प्रमुख शहरों से बस या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। rishikesh to nanda devi national park

रेल द्वारा: नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश रेलवे स्टेशन है | जो करीबन 276 किमी दुरी पर स्थित है। रेलवे स्टेशन के पास से ही बस और टैक्सी मिलती है | जिनका किराया अलग – अलग होता है | हालांकि बस का किराया 300 से 400 रूपये के बीच होता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like